Saturday, February 4, 2023
Homeइंडियासेकुलरिज्म के नाम पर यूवाओ को योग से दूर रखा गया: श्री...

सेकुलरिज्म के नाम पर यूवाओ को योग से दूर रखा गया: श्री श्री रविशंकर

दिल्ली: आजादी के 75 वें वर्षगांठ पर सम्पूर्ण भारत में आजादी का अमृत महोत्सव मनाया जा रहा है। इसी कड़ी में इंडिया सेंटर फॉर पॉलिसी रिसर्च एंड डेवलपमेंट (आईसीपीआरडी) ने डॉ. अंबेडकर इंटरनेशनल सेंटर, जनपथ, नई दिल्ली में सेमिनार का आयोजन किया । इस कार्यक्रम को देश के अग्रणी विचारक नेताओं ने संबोधित किया।


कार्यक्रम में विशिष्ट वक्ताओं में गुरुदेव श्री श्री रविशंकर, “द आर्ट ऑफ लिविंग” के संस्थापक, कर्ण सिंह पूर्व केंद्रीय मंत्री , संसद डॉ. रीता बहुगुणा जोशी और श्याम जाजू मौजूद थे।

कार्यक्रम के मुख्य अतिथि गुरुदेव श्री श्री रविशंकर ने कहा की.
“मन की स्थिति पूरी तरह से व्यक्ति की खुशी पर निर्भर करती है, मन को सभी विचारों से मुक्त करें और स्वतंत्रता दें। ‘ओम् नमः शिवाय’ मंत्र। कश्मीर से कन्याकुमारी तक देश को जोड़ता है, यही है भारत की ताकत। महामारी ने हमें मानसिक शांति का पाठ पढ़ाया है, इसलिए सभी को खुद को स्वस्थ रखना चाहिए क्योंकि मानसिक स्वास्थ्य सबसे बड़ी चुनौती है।”

उन्होंने कहा कि सेकुलरिज्म के नाम पर यूवाओ को योग से दूर रखा गया ।

आईसीपीआरडी के संस्थापक अध्यक्ष, कुमार राजीव रंजन सिंह ने आईसीपीआरडी संगठन के दृष्टिकोण और पॉलिसी बनाने में केंद्र और राज्य सरकारों के साथ व्यापक सहयोग की बात कही इसी के साथ उन्होंने कहा की 75 साल में देश ने सामाजिक-सांस्कृतिक, राजनीतिक और आर्थिक विकास के सफर को तय किया है उसका जश्न मनाया जा रहा है, यह कार्यक्रम उन लोगों के बलिदान को पहचानने के लिए मनाया जा रहा है, जिन्होंने देश की आजादी के लिए लड़ाई लड़ी लेकिन उन्हें याद नहीं किया गया। उन्होंने कहा कि यह कार्यक्रम देश के विकास के लिए एक्शन लेने का रोडमैप तैयार करने का भी एक तरीका है

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments